न्यूज रूम के यथार्थ को सामने लाती अवनीन्द्र जी की नई किताब मिस टीआरपी

वरिष्ठ पत्रकार अवनीन्द्र झा की नई किताब आई है...मिस टीआरपी। अमेजन से किताब मिलते ही एक बार में ही पूरा पढ़ गया। हास्य-व्यंग्य की शैली में लिखी गई अवनीन्द्र जी की यह किताब आखिर तक पाठक को बांधे रखती है। पत्रकारिता और न्यूज रूम से जुड़ी कहानियां होने के कारण खुद को भी आसपास पा रहा था। लग रहा था कि सबकुछ सामने घटित हो रहा है।

अवनीन्द्र जी बहुत अच्छा लिखते हैं और हास्य-व्यंग्य की विधा पर उनकी जबरदस्त पकड़ है। वे सहज सामान्य रूप से हल्के से आपको पटखनी दे देंगे और आपको पता भी नहीं चलेगा। अवनीन्द्र जी के लिखे को समझने के लिए आप में भी हास्य बोध के समझने की शक्ति होनी चाहिए। नहीं तो कई बार वे आपको एक-दो शब्द में ही ऐसे लपेटे में ले लेंगे कि शुरू में आपको पता नहीं चलेगा और जब आप उस पर सोचिएगा तो हंसते-हंसते लोटपोट हो जाइएगा।

अवनीन्द्र जी ने मिस टीआरपी में 18 कहानियों के माध्यम से न्यूज रूम की एक-एक परते उघेर कर रख दी है। न्यूज रूम के भीतर की कार्यशैली, दांव-पेंच, एक-दूसरे से आगे बढ़ने की कोशिश में दूसरे को खेल से ही बाहर करने की रणनीति, बने रहो पगला...काम करेग अगला, ***कम  हिलाओ ज्यादा, हर काम का श्रेय लेने की कोशिश, बॉस की चापलूसी, पत्रकारिता में पत्रकारों के बीच जारी छल- प्रपंच और विकृतियों को अवनीद्र जी ने इस किताब से आम लोगों के सामने भी ला दिया है। आमतौर पर पत्रकारों के बारे में लोगों की जो धारणा है वो इस किताब को पढ़कर खंडित हो सकती है।

अवनीन्द्र जी की इस किताब को पत्रकारिता के नए छात्रों को भी जरूर पढ़नी चाहिए। इससे वे न्यूजरूम की सच्चाई से पहले से परिचित होंगे तो आगे ज्यादा कठिनाई नहीं होगी। नए पत्रकारों को काटो-काटो वाले सीनियर से भी पाला पड़ सकता है। पत्रकारिता में जॉब शुरू करने से पहले उनके मन में जो सवाल उठते होंगे उनके जवाब भी यहां मिल सकते हैं।

सन्मति प्रकाशन से प्रकाशित इस 132 पेज की किताब का मूल्य 200 रुपये है। आप इसे मेरी तरह अमेजन से मंगा कर पढ़ सकते हैं। अवनीन्द्र जी इसके पहले पटकथा लेखन पर भी एक किताब लिख चुके हैं।




मैं अपने ब्लॉग को #Blogchatter के #MyFriendAlexa के साथ अगले स्तर पर ले जा रहा हूं।

-हितेन्द्र गुप्ता

#TalesOfHitendra #Hitendrawrites #MyFriendAlexa #Blogchatter #Darbhanga #Travel #Tourism #IncredibleIndia

No comments:

Post a Comment